नई दिल्ली. आधी सदी बीत जाने के बाद भी लोगों के जुंबा पर ‘पाकीजा’ (Pakeezah) फिल्म का गाना ‘चलते-चलते यूं ही कोई मिल गया था’ और ‘इन्हीं लोगों ने ले लीना दुपट्टा मेरा’ मौजूद है. राजकुमार और मीना कुमारी की यादगार और सदाबहार फिल्म ‘पाकीजा’ आज भी लोगों की पसंदीदा मूवी है. इस फिल्म को मीना कुमारी (Meena Kumari) के पति कमाल अमरोही (Kamal Amrohi) ने डायरेक्ट किया. हालांकि, एक समय कमाल को अपने महबूब के तौर पर देखने वाली मीना शादी के बाद जल्द ही बंदिशों के चलते उनसे अलग हो गईं. बेहद खूबसूरत हुस्न की मल्लिका की निजी जिंदगी बेहद खराब रही. इसे बात से आप समझ सकते हैं कि एक इंटरव्यू में उन्होंने खुद कहा था, ‘खुदा के वास्ते गम को भी तुम न बहलाओ, इसे तो रहने दो मेरा, यही तो मेरा है!’ उनकी निजी रिश्तों का असर फिल्म पाकीजा पर भी पड़ा. इस फिल्म को बनने में 14 साल गए. वहीं, राजकुमार (Raaj Kumar) भी मीना कुमारी की पांव देखकर उनसे प्यार कर बैठे. आइये जानते हैं पूरा किस्सा…

तलाक और सिर्फ एक रुपये मेहनताना लिया
यह फिल्म साल 1958 में बननी शुरू हुई थी. तीन साल बाद मीना और उनके पति कमाल का अलगाव हो गया. पहले से दो शादी कर चुके कमाल अपनी पत्नी मीना पर बेहद पाबंदियां लगाते थे. एक दिन मीना के सब्र का बांध टूट गया और वह उनसे अलग हो गईं. जब पाकीजा बंद होने की कगार पर पहुंच गई तो कमाल ने मीना को एक खत लिखा. उन्होंने मीना से कहा, “मैं जानता हूं कि आप सिर्फ इस शर्त पर ‘पाकीजा’ को पूरा करेंगी कि मैं आपको तलाक दे दूं. मुझे आपकी यह बात मंजूर है और मैं आपको हर तरह आजाद करने के लिए राजी हूं. इस फिल्म से कई लोगों की जिंदगी जुड़ी है इसलिए इसे जरूर पूरी करें.”

मीना कुमारी भी पिछले बातों को भूलकर इस फिल्म को पूरी करने में जुट गई. इस फिल्म के लिए उन्होंने सिर्फ एक रुपये बतौर फीस ली. कहा जाता है कि इस फिल्म में मीना कुमारी के अपोजिट पहले धर्मेंद्र थे. लेकिन धर्मेंद्र और मीना के बीच बढ़ती नजदीकियों को देख उनके शक्की पति कमाल ने ही मैन की जगह राजकुमार को ले लिया.

मीना कुमारी के प्यार में डूबे राजकुमार
ऐसा कहा जाता है कि फिल्म शूटिंग के दौरान ही राजकुमार मीना कुमारी के दीवाने हो गए. राजकुमार मीना कुमारी के प्यार में इस कदर डूब गए कि वो सेट पर अपने डॉयलॉग भूल जाया करते थे. मीना के जलनखोर पति ने जब राजकुमार की दीवानगी देखी तो उन्होंने नायक और नायिका के बेहद ही कम प्रेम वाले दृश्य को साथ में करवाएं. राजकुमार को कमाल इतने खफा हुए कि उन्होंने आगे अपनी किसी फिल्म में राजकुमार को नहीं लिया. हालांकि, मीना और राजकुमार ने ‘दिल अपना और प्रीत पराई’ में भी काम किया.

फिल्म रिलीज होते ही मीना कुमारी चल बसी
‘पाकीजा’ फिल्म मीना कुमारी की आखिरी फिल्म थी. बेहिसाब शराब पीने की वजह से उन्हें लिवर सिरोसिस बीमारी हो गई थी. साल 1972 में फिल्म रिलीज के कुछ हफ्ते बाद ही मीना कुमारी ने दुनिया को अलविदा कह दिया. उस समय वह महज 38 साल की थीं.

 

Categorized in: